Dec 15, 2014

=> पेंसिल से जानिए सुखी जीवन के 7 गुरुमंत्र

दोस्तों, पेंसिल के आविष्कारक ने पैकेट में बंद करने से पहले से पेंसिल से कहा, मैं तुम्हें इस दुनिया में बेहतरीन कार्य करने के लिए भेज रहा हूँ लेकिन उससे पहले तुम्हें ये सात गुरुमंत्र याद करने होंगे तभी तुम इस दुनिया कि सबसे बेहतरीन और सर्वश्रेष्ठ पेंसिल कहलाओगी..
((1.)  इस संसार ,में तुम्हारा रूप-रंग और आकार कैसा भी हो, तुम खुद को हमेशा आगे लाने का प्रयत्न करना, कभी मत समझना कि तुम्हारे चाहने वालों की कमी होगी...
((2.)  तुम इस संसार में एक बेहतर कार्य करने के लिए जा रही हो, दूसरों के हाथों में विश्वास पैदा करने से पहले तुम्हें खुद पर यह भरोसा रखना होगा कि तुम सामने वाले के लिए सही हो...
((3.)  तुम्हारी बीच-बीच में छिलाई की जायेगी, लेकिन उस पीड़ा से मत घबराना, समय के साथ तुम्हारी बेहतरी निखरती जायेगी...
((4.)  तुम अपनी गलतियाँ दूसरों पर मत लादना, खुद की गलती को स्वीकारना और अपनी गलती को सुधारने की योग्यता रखना..
((5.)  तुम्हें कई प्रकार से अपने में मजबूती लानी होगी जिससे तुम हर भावना के प्रति कागज में अपनी छाप छोड़ जाओ...
((6.)  तुम्हारी बाहरी परत से लोग तुम्हें प्यार करें ये जरुरी नहीं क्यूंकि तुम्हारा सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा तुम्हारे अंदर है यह हमेशा याद रखना...
((7.)  समय के साथ तुम्हारे अंदर भी कई परिवर्तन किये जायेंगे लेकिन तुम दुनिया के किसी भी कोने में रहो लिखना मत छोडना, कहीं कैसी भी परिस्थितियां हों वहाँ अपने निशान छोड़ जाना...
 
 
दोस्तों पेंसिल ने तो इन सात बातों को बखूबी निभाया और इन्हें अपने लक्ष्य का हिस्सा मानकर वह अपने डिब्बे के अंदर चली आई. आप खुद भी उस पेंसिल के अपने नियमों को देखिये उसके जगह खुद को रखिये और अपने आपको एक श्रेष्ठ व्यक्ति बनाने के लिए आगे आइये..
इसके लिए हम पेंसिल  के सफल मन्त्रों को ही अपना गुरुमंत्र मानते हैं, और एक सफल और कामयाब व्यक्ति बनने  के लिए आइये हमारे इन सात गुरुमंत्रों को देखते हैं:-
गुरुमंत्र(1.) इस संसार में हम सब में भिन्नता है, हमारा रूप-रंग या आकार एक जैसा नहीं है उसी प्रकार भगवान ने भी हम सबके अंदर कई विशेष गुण दिए हैं, गुणों में भी भिन्नता है, सबके अंदर कमाल का Talent मौजूद है लेकिन यदि आप अपने गुणों को दबाए रखेंगे तो यक़ीनन आपकी पहचान दब कर रह जायेगी, इसलिए अपने आपको आगे लाने के लिए प्रयत्न कीजिये, जैसे-जैसे आपके गुणों से लोग प्रभावित होंगे, आपके चाहने वालों की संख्या बढ़ती जायेगी और इससे आपके गुणों में भी वृद्धि होती जाएँगी और यह समय के साथ ही निखरती जाएँगी...
गुरुमंत्र(2.) यह तो सफलता के नजदीक पहुचने का सबसे अच्छा रास्ता है मतलब खुद पर भरोसा, खुद पर विश्वास यानी जीत के करीब आप पहुच गए.. कोई भी कार्य आपके लिए असंभव नहीं है लेकिन यह बहुत जरुरी है कि आप स्वयं पर कितना विश्वास करते हैं.. लोगों का विश्वास आप पर तभी होगा, जब आपका स्वयं के ऊपर अटूट विश्वास होगा, इसलिए अपने और अपनी सफल होने की चाहत के विश्वास को डगमगाने मत दीजिए...
गुरुमंत्र(3.) तुम्हें बार-बार विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा, बार-बार चोंट खाओगे, गिरोगे और ठोंकरे लगेंगी लेकिन यह सिर्फ तुम्हें परखने के लिए सिर्फ तुम्हारी परीक्षा मात्र होगी, इसलिए कभी भी इनसे मत घबराना जो तुम्हें निराश करें, याद रखना तुम अभी चोंट इसलिए खा रहे हो क्यूंकि तुम्हें मजबूत बनना है और कल समय गवाह होगा जब कई मुश्किलों के बाद तुम अपनी जीत का परचम लहराए खड़े रहोगे... समय के साथ तुम्हारी पहचान बढ़ती जायेगी लेकिन हार मत मानना, डटे रहना, लगे रहना क्यूंकि जीत तुम्हारी ही होगी...
गुरुमंत्र(4.) जब तुम अपनी कामयाबी का श्रेय खुद को देते हो तो नाकामयाबी हासिल होने पर गलतियाँ दूसरों पर क्यों निकालते हो, किसी की बर्बादी के लिए दूसरे ज्यादा जिम्मेदार नहीं होते जितना कि वो खुद रहता है.. सफल होने के लिए तुम्हें समझना होगा कि वाकई अपनी गलतियाँ दूर करके तुम कितने आगे जा सकते हो, जितना समय तुम दूसरों की गलतियाँ खोजने में लगाते हो उतना यदि खुद की गलती को खोजकर उसे सही करने का प्रयास करोगे तो तुम बहुत आगे जाओगे.. इसलिए अपनी गलतियों को को स्वीकारना और उन्हें सुधारने की योग्यता रखना और यह काम सिर्फ आप कर सकते हो क्योंकि बदलना आपको है...
गुरुमंत्र(5.) तुम्हें अपने आपको मजबूत करना होगा, परिस्थितियां तुम्हारे अनुकूल नहीं बनाई गयी हैं, सुख-दुःख, हार-जीत के ऐसे पड़ाव में रोकर अपना कीमति आँसू पोंछने के बजाय आखरी दम तक कोशिश करना, विपरीत परिस्थिति में भी अपने जीत के निशान छोड़ जाना...
गुरुमंत्र(6.) तुम जो भी काम करना दिल से करना, अपना फायदा देखने से पहले यह सोचना की सामने वाले को भी इससे बहुत लाभ मिले, लोग आपको इसलिए प्यार नहीं करेंगे कि आपकी सकल सूरत बहुत अच्छी है वो तो इससे प्यार करेंगे कि आपका दिल कितना प्यारा है, आप कितने अच्छे इंसान हैं... याद रखिये तुम्हारा सबसे अनमोल रत्न तुम्हारे अंदर मौजूद है, और इसी से तुम्हारी प्रसंशा होगी और वो ये हैं- तुम्हारी आत्मा, तुम्हारा दिल, तुम्हारा चरित्र और तुम्हारा प्रेम... जो सदैव तुम्हारे जीत का कारण बनेंगे..
गुरुमंत्र(7.) तुम कैसे भी जियो, जहाँ भी रहो, जहाँ भी जाओ वहाँ अपनी छाप छोड़ जाना. पूरी ताकत से अपना कर्तव्य निभाना.. और अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए सब काम करना... ऐसा काम करना कि लोग तुम्हें मरणोपरांत भी याद रखें....
-----------------------------------------------------------

दोस्तों एक छोटी- सी पेंसिल से हम अपने जीवन की कितनी सार-पूर्ण बातें समझ सकते हैं आप सब भी अपने जीवन में इन सातों गुरुमंत्र को अपनाएं यक़ीनन आपके अंदर एक बहुत बड़ा और सकारात्मक परिवर्तन नजर आएगा... उम्मीद है ये सातों गुरुमंत्र आपके जीवन में एक अच्छा परिवर्तन लायेंगे..                                  from "hamarisafalta.com"