Jan 7, 2012

=> हिसाब

सिखाये गुर निशाने बाजी के, मुझपे साधेगा निशाना कितना
तुमने ढाये हैं सितम हमपे , हमने कयामत किया है जितना
                               आओ कर लें हिसाब बैठ के मयखाने में

No comments: