'No candle looses its light while lighting up another candle'So Never stop to helping Peoples in your life.

test

Post Top Ad

https://2.bp.blogspot.com/-dN9Drvus_i0/XJXz9DsZ8dI/AAAAAAAAP3Q/UQ9BfKgC_FcbnNNrfWxVJ-D4HqHTHpUAgCLcBGAs/s1600/banner-twitter.jpg

Sep 10, 2018

=> भारत बंद के खिलाफ कांग्रेस को 21 दलों का समर्थन, लेकिन सपा और बसपा ने बनाई दूरी


  • नई दिल्ली, एजेंसी

पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस ने आज 'भारत बंद' किया है. कांग्रेस को इस बंद में 21 विपक्षी पार्टियों का समर्थन मिला है, लेकिन राहुल गांधी के साथ मंच पर कई सहयोगी दल के नेता नजर नहीं आए. ऐसे में कहा जा सकता है कि मोदी के खिलाफ सड़क पर कांग्रेस अधूरा विपक्ष को लेकर उतरी है.

Image result for bharat band
भारत बंद के खिलाफ कांग्रेस को भले ही 21 दलों ने समर्थन दिया हो, लेकिन सपा और बसपा जैसे बड़े दलों का कोई भी नेता दिल्ली में राहुल गांधी के मंच पर नजर नहीं आया. जबकि विपक्ष दलों की ओर से शरद पवार, शरद यादव जैसे बड़े नेता धरना प्रदर्शन में मौजूद रहे.

हालांकि अखिलेश यादव के ऐलान के बाद आज प्रदेश में किसानों की परेशानियों, पेट्रोलियम पदार्थों के बढ़ते दाम एवं मंहगाई, कानून व्यवस्था की बदहाली, बढ़ते भ्रष्टाचार और छात्रों-नौजवानों के दमन के खिलाफ सपा कार्यकर्ता सूबे के हर जिला तथा तहसील मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं.

वही, बसपा ने जरूर कांग्रेस के भारत बंद को समर्थन किया है. इसके बावजूद न दिल्ली न यूपी कहीं भी बसपा कार्यकर्ता और न ही नेता नजर आ रहे हैं. इतना ही राहुल गांधी के साथ मंच पर भी कोई बसपा का नेता उपस्थित नहीं था. जबकि इससे पहले कांग्रेस द्वारा विपक्ष की तमाम दलों की बुलाई जाने वाली बैठकों में बसपा मायावती भले ही न आती रही हों, लेकिन पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्र जरूर उपस्थित रहते थे.

राहुल की गैरमौजूदगी में बना भारत बंद का प्लान..

राहुल गांधी की गैरमौजूदगी में भारत बंद को सफल बनाने किए कांग्रेस ने एक खाका तैयार किया. इसके लिए लंबी मीटिंग हुई है. पार्टी के सभी प्रदेश अध्यक्षों को इस बंद को सफल बनाने के निर्देश दिए गए हैं.

कांग्रेस के चाणक्य अहमद पटेल और कांग्रेस के संगठन महासचिव अशोक गहलोत ने बंद को कारगार बनाने के लिए विपक्षी दलों को साधने की जिम्मेदारी उठाई. इसके अलावा कांग्रेस ने शरद यादव के जरिए सहयोगी दलों को साधने की कोशिश की.

दरअसल अहमद पटेल और गहलोत के रिश्ते विपक्षी दलों के बीच ठीक-ठाक हैं. वहीं, शरद यादव के रिश्ते भी सपा और आरजेडी जैसे दलों के साथ काफी हैं. इन नेताओं ने विपक्ष के सभी सहयोगी दलों से बातचीत कर भारत बंद में शामिल होने के लिए समर्थन मांगा.

कई दल हुए शामिल

कांग्रेस के भारत बंद में आम आदमी पार्टी भी शामिल है. आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पैदल मार्च करते हुए नजर आए. लेकिन दिल्ली को बंद नहीं किया. पार्टी ने अपने आपको सिर्फ विरोध तक ही सीमित रखा.

आप की तरह पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी राहुल गांधी के साथ सड़क पर नजर आई. पार्टी ने साफ कह रखा है कि जिन मुद्दों पर बंद बुलाया जा रहा है, वह उस पर साथ है. लेकिन पार्टी सुप्रीमो और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की घोषित नीति के मुताबिक वह राज्य में किसी तरह की हड़ताल नहीं करेगी. टीएमसी इस पर कायम है.

कांग्रेस के नेतृत्व में आज भारत बंद में एनसीपी, डीएमके, सपा, जेडीएस, बसपा, टीएमसी, आरजेडी, सीपीआई, सीपीएम, एआईडीयूएफ, नेशनल कांफ्रेंस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड विकास मोर्चा, आप, टीडीपी, केरला कांग्रेस, आरएसपी, आईयूएमएल, शरद यादव की पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल, राजू शेट्टी की स्वाभिमानी शेतकरी पार्टी और हिंदुस्तान अवाम पार्टी (हम) ने अपना समर्थन दिया है. लेकिन इनमें से कई दल ऐसे हैं जिन्होंने राहुल के साथ मंच शेयर नहीं किया है.

कांग्रेस के इस भारत बंद के आह्वान पर विपक्ष के कई दल शामिल नहीं हो रहे हैं. इनमें बीजू जनता दल, टीआरएस और एआईएडीएमके जैसे कई राजनीतिक दल हैं जो 'भारत बंद' के खिलाफ हैं.

मोदी के नेतृत्व वाले एनडीए को भी कांग्रेस ने आज के भारत बंद में शामिल होने के लिए सहयोग मांगा था. रविवार को ही शिवसेना ने भारत बंद में हिस्सा लेने के कांग्रेस के अनुरोध को ठुकरा दिया था. कांग्रेस के आग्रह पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने साफ कहा कि शिवसेना बंद में हिस्सा नहीं लेगी.

No comments:

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages