'No candle looses its light while lighting up another candle'So Never stop to helping Peoples in your life.

test

Post Top Ad

https://2.bp.blogspot.com/-dN9Drvus_i0/XJXz9DsZ8dI/AAAAAAAAP3Q/UQ9BfKgC_FcbnNNrfWxVJ-D4HqHTHpUAgCLcBGAs/s1600/banner-twitter.jpg

Jul 30, 2012

=> विज्ञान की 7 महान खोजें जिन्होंने बदल दी दुनिया...




                            दुनिया के कण-कण के पीछे मौजूद हिग्स बोसॉन या गॉड पार्टिकल की बुधवार को जिनेवा में पुष्टि हुई। इससे भौतिकी का वह ‘शून्य’ मिल गया, जिससे सृष्टि की गिनती पूरी होती है। आइये.. जानें विज्ञान की उन सात महान खोजों को जिन्होंने हमारी दुनिया बदल दी.. 

वैक्सीनेशन:

                             17वीं सदी में यूरोप में हर साल चेचक से चार लाख लोगों की मौत होती थी। ऐसे में 1796 में ब्रिटिश वैज्ञानिक एडवर्ड जेनर ने पहली बार वैक्सीनेशन शब्द का इस्तेमाल किया। इसमें बीमारी को दूर करने के लिए बीमारी का ही इस्तेमाल किया गया। वायरस को शरीर में इंजेक्ट किया। ताकि शरीर में उससे लड़ने की ताकत विकसित हो सके। 

आज इस्तेमाल : सैकड़ों बीमारियों से बचा रहा है वैक्सीन।

इलेक्ट्रॉन आया, जिससे बनी बिजली 

1838 में पता चला था कि सब-एटॉमिक पार्टिकल इलेक्ट्रॉन का अस्तित्व है। लेकिन उसे साबित करने में 60 साल लग गए थे। इसके बाद ही बिजली का अविष्कार हो सका। टीवी और सीडी की तकनीक से लेकर कैंसर रोगियों के लिए रेडियोथेरेपी भी इसी की बदौलत सामने आई। 

आज इस्तेमाल: बिजली के बिना आज जिंदगी की कल्पना ही नहीं की जा सकती। 

जीनोम सिक्वेंस मैपिंग
इंसानी शरीर के प्रत्येक जींस की मैपिंग की गई। 1990 में इंटरनेशनल ह्यूमन जीनोम प्रोजेक्ट शुरू हुआ। अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस और चीन के वैज्ञानिक शामिल हुए। 2003 में जीनोम मैपिंग पूरी हो गई। 2009 में भारतीय वैज्ञानिकों ने देश में पहली बार जीनोम मैपिंग पूरी की। नई दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी ने दो साल की तैयारी के बाद 45 दिन में काम पूरा किया। 

आज इस्तेमाल: बीमारी की वजह, दवा का असर समझने में फायदेमंद। खास जीन से होने वाले नुकसान का पूर्व आकलन संभव।

पेनिसिलिन
स्कॉटिश वैज्ञानिक एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने 1921 में पहले एंटी-बायोटिक की खोज की। इंफ्लूएंजा वायरस पर शोध के दौरान पाया कि स्टेफीलोकोकस कल्चर प्लेट पर फंगस उगी हुई है। जांच में पता चला कि उसके आसपास का क्षेत्र बैक्टीरिया मुक्त है। 

आज इस्तेमाल: पेनिसिलिन कई मिश्रणों के साथ कई दवाओं में हैं। 

पहला सैटेलाइट
स्पूतनिक-1 पहला कृत्रिम उपग्रह था, जिसे रूस ने 4 अक्टूबर 1957 को लॉन्च किया। इससे स्पेस एज की शुरुआत हुई। अब इस दौड़ में अमेरिका, ब्रिटेन और चीन के साथ ही भारत भी शामिल हैं। रूस के यूरी गगारिन 12 अप्रैल 1961 को वोस्तोक यान के जरिए अंतरिक्ष में पहुंचे तो अमेरिकी नागरिक नील आर्मस्ट्रांग ने 20 जुलाई 1969 को चंद्रमा पर पहुंचने वाले पहले मानव बने। 

अब इस्तेमाल: मंगल ग्रह पर जाने की तैयारी। पृथ्वी के वातावरण से समानता रखने वाले ग्रहों को खोजा जा रह है। 

स्टेम सेल थैरेपी
शरीर की कोशिकाएं ही बना लेंगी नए अंग। आइसोलेटिंग एम्ब्रायोनिक स्टेम सेल्स ऑफ ह्यूमन्स एंड प्रीमेट्स पर अमेरिकी वैज्ञानिक जेम्स थॉमसन ने पेटेंट लिया है। अब तक आंख, दिल, मस्तिष्क सहित कई अंगों की कोशिकाएं बनाई जा चुकी है। इलाज फिलहाल महंगा, लेकिन भविष्य में तकनीक सस्ती होने की उम्मीद। 

अब इस्तेमाल: क्लोनिंग के जरिए संभावनाओं को टटोला जा रहा है। कैंसर सहित कई जाबीमारियों से इलाज में मदद ली जा रही है। स्टेम सेल थैरेपी चिकित्सा के क्षेत्र में खासी मददगार साबित हो रही है। 

परमाणु बम
परमाणु बम बना तो विनाश के लिए था, लेकिन बाद में इसका इस्तेमाल बेहतरी के लिए हो रहा है। 1940 में अमेरिका में यूरेनियम को रिफाइन कर एटम बम बनाने की तकनीक पर काम शुरू हुआ। इसे मैनहट्टन प्रोजेक्ट के रूप में जाना जाता है। 1945 में अमेरिका ने जापान के दो शहरों-हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए। हजारों लोग मारे गए। करोड़ों अब भी प्रभावित हैं। 

अब इस्तेमाल : परमाणु ऊर्जा अस्तित्व में आई। परंपरागत ऊर्जा स्रोतों के मजबूत विकल्प के रूप में सामने आया। 

No comments:

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages