'No candle looses its light while lighting up another candle'So Never stop to helping Peoples in your life.

test

Post Top Ad

https://2.bp.blogspot.com/-dN9Drvus_i0/XJXz9DsZ8dI/AAAAAAAAP3Q/UQ9BfKgC_FcbnNNrfWxVJ-D4HqHTHpUAgCLcBGAs/s1600/banner-twitter.jpg

Nov 29, 2015

=> स्मार्ट बनें अधिकारीः आयुक्त

  • स्मार्ट सिटी फैक्टर
  •  आधुनिक तकनीक एवं सूचना प्रौद्योगिकी का प्रयोग करें अधिकारी

संवाददाता                                                                                                   
मेरठ/गाजियाबाद। गाजियाबाद को स्मार्ट सिटी में परिवर्तित करने के लिये आयुक्त सभागार में मंडलायुक्त आलोक सिन्हा की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गयी। आयुक्त आलोक सिन्हा ने अधिकारियों से कहा कि वह स्वंय स्मार्ट बने, स्मार्ट विचार रखें और प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने के लिये व्यापक दृष्टिकोण सदैव रखें और सूचना प्रौद्योगिकी का प्रयोग करें। 
स्मार्ट सिटी पर अधिकारियों को
दिशा-निर्देश देते मंडलायुक्त।
         बैठक में आयुक्त आलोक सिन्हा ने निर्देशित किया कि गाजियाबाद व मेरठ को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये मार्किंग पैरामीटर ठीक होना चाहिए तथा विजन एवं लक्ष्य स्पष्ट होना चाहिए। उन्होंने बताया कि सिटी प्रोफाइल के अन्तर्गत लिविंग ऑफ पब्लिक इन्फ्रास्ट्रख्र स्पष्ट होना चाहिए। आयुक्त ने निर्देशित किया कि सम्बंधित जनपदों में वेन्डिग जोन भी बनाया जाये। आयुक्त ने कहा कि ट्रांसपोर्ट विद्युत, सफाई व्यवस्था, ठोस अपस्षि्ट प्रबधन आदि विषयों को ध्यान में रखते हुए रिपोर्ट सबमिट की जाये। 
         बैठक में नगर आयुक्त गाजियाबाद अब्दुल समद ने बताया कि स्मार्ट सिटी बनाने के लिये रिपोर्ट जमा करने की अंतिम तिथि 15 दिसम्बर निर्धारित कर दी गयी तथा डाटा अपलोड कर दिया गया है जिस पर लोगो की प्रतिक्रिया आ रही है। उन्होनें बताया कि गाजियाबाद बहुत ही विकासशील शहर है  और उसके स्मार्ट सिटी बनने की सम्भांवना अधिक है। उन्होंने बताया कि एनसीआर डिपार्टमेंट बोर्ड गाजियाबाद के औद्योगिक क्षेत्र को अलग से विकसित किया जा रहा तथा हम शहर का सर्वांगीण विकास करेंगे। 
         इस अवसर पर अपर आयुक्त गया प्रसाद, मुख्य नगर नियोजक ए0के0 बोस, मेरठ विकास प्राधिकरण के सचिव कुमार विनीत, अधीक्षण अभियन्ता सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

No comments:

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages